Tag: Nightfall Treatment in hindi

Swapndosh Ke Karan, Lakshan Aur Desi Ayurvedic Upchar

Swapndosh Ke Karan, Lakshan Aur Desi Ayurvedic Upchar

स्वप्नदोष के कारण, लक्षण और देसी आयुर्वेदिक उपचार स्वप्नदोष(Nightfall)- युवावस्था के जब लक्षण फूटने प्रारम्भ हो जाते हैं, अधिकांशत: उस समय यह रोग होता देखा जाता है। चिकित्सा के लिए जाने वाले युवा लड़के अधिकतर 22-24 वर्ष की आयु में आते हैं, जबकि इस रोग के लक्षण 14-15 वर्ष की आयु में ही प्रारम्भ हो …

+ Read More

Swapndosh(Nightfall) Ki Labhkari Ayurvedic Aushadhiya

Swapndosh(Nightfall) Ki Labhkari Ayurvedic Aushadhiya

स्वप्नदोष(नाईट फाॅल) की लाभकारी आयुर्वेदिक औषधियाँ- नाईट फाॅल किसे कहते हैं? नींद में कोई उत्तेजक व अश्लील स्वप्न देखने के कारण या फिर स्वप्न में किसी सुंदर स्त्री या लड़की के साथ संभोगयुक्त प्रभाव के कारण वीर्य वस्त्र में ही निष्कासित हो जाता है, जिसे स्वप्नदोष कहते हैं। सरल भाषा में कहा जाये, तो नींद …

+ Read More

Swapandosh Ki Sahi Aur Puri Jankari Payen

Swapandosh Ki Sahi Aur Puri Jankari Payen

स्वप्नदोष की सही और पूरी जानकारी पायें स्वप्नदोष किसे कहते हैं? नींद के दौरान कोई उत्तेजक व अश्लील दृश्य स्वप्न में आये या फिर नींद में ऐसा आभास हो कि पुरूष किसी स्त्री के साथ या फिर स्त्री को लगे कि वह किसी पुरूष साथी के साथ कामक्रीड़ा के लिए आतुर है, तो इस स्थिति …

+ Read More

Ayurvedic Upchar Se Karen Swapndosh Ki Samasya Ko Door

Ayurvedic Upchar Se Karen Swapndosh Ki Samasya Ko Door

आयुर्वेदिक उपचार से करें स्वप्नदोष की समस्या को दूर स्वप्नदोष- इस रोग में कभी-कभी स्त्री के नग्न स्वरूप का चलचित्र स्वप्न में आता है। मनुष्य उससे सम्भोग करता है, जिससे नींद में ही वीर्यपात हो जाता है और कपड़े गंदे हो जाते हैं तथा जब इस प्रकार स्वप्न में बार-बार वीर्य निकलने लग जाता है, …

+ Read More

Purushon Me Swapndosh Ki Samasya Or Ayurvedic Upchar

Purushon Me Swapndosh Ki Samasya Or Ayurvedic Upchar

 पुरूषों में स्वप्नदोष की समस्या और आयुर्वेदिक उपचार स्वप्नदोष क्या है? स्वप्नदोष एक सामान्य व नेचुरल क्रिया है, ऐसे में अगर कोई पुरूष नींद के दौरान स्खलित हो जाये यानी उसका वीर्यपात हो जाये, तो इसमें घबराने जैसी कोई बात नहीं है। ऐसा होने के पीछे बहुत सी वजह हो सकती हैं। निंद्रा के वक्त वीर्यपात …

+ Read More